भारत के नेलसन मंडेला लालू यादव

भारत के नेलसन मंडेला लालू यादव जी ने जब पत्थर तोड़ने वाली चूहे खाकर पेट भरने वाली मुसहर जाति की जिस ग़रीब भगवतिया देवी को देश की सबसे बड़ी पंचायत संसद में भेजा तो सामन्तियों की आँखों के लट्टू बाहर आ गए... 1997 में जब लालू जी के मुख्यमंत्री आवास

Read More

इस मानसिक गुलामी से कब आज़ादी मिलेगी?

तुम लंगोट से जौकी पर आ गये...पायजामे से पतलून पर आ गये...नाड़े से बेल्ट पर आ गये...खड़ाऊँ से बूट पर आ गये...कलम से कीबोर्ड पर आ गये। पगडंडियों से एक्सप्रेस वे पर आ गये...चूल्हे से इंडक्शन कुकर पर आ गये...जंगलो से अपार्टमेंट तक आ गये। हल से ट्रैक्टर पर आ

Read More

व्हाट्स अप अफवाह शुभ सुख चैन की बरखा बरसे

अफवाह "नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आज़ाद हिंद फौज द्वारा *मूल राष्ट्र गान* जिसके बोल बाद में गुरुदेव रविन्द्र नाथ टैगोर ने बदल दिया। 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता मिलते ही जब प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने दिल्ली के लाल किले पर पहली बार तिरंगा फहराया था तो इसी राष्ट्र गान को

Read More

VVPAT में लगायी जा सकती है सेंध

#VVPAT में लगायी जा सकती है सेंध: एक ख़ुलासा "VVPAT में पलक झपकते ही ऐसा सॉफ्टवेअर ड़ाला जा सकता है कि बटन दबाने पर 'बीप' की आवाज़ हो, सही लाइट भी जले, पेपर प्रिंट होकर दिखे तो सही लेकिन EVM की मेमोरी चिप (EPROM IC etc.) में वोट सिर्फ़ किसी पूर्वनिश्चित

Read More
महिला दिवस

महिला दिवस पर याद करने योग्य बातें

महिला दिवस पर याद करने योग्य बातें.. जिन्हें याद करना जरूरी है क्योंकि ये उन अत्याचार की दास्तान है जो कभी महिलाओं पर हुआ करते थे खासकर निचली जाति की महिलाओं पर.... केरल के त्रावणकोर के ब्राह्मण राज्य में गैरब्राह्मण महिलाओं को स्तन ढकने की मनाही थी साथ ही महिलाओं पर

Read More

मुहम्मद शरीफ उर्फ नसीम हिजाज़ी

मुहम्मद शरीफ जो कि आमतौर पर अपने छद्म नाम नसीम हिजाज़ी द्वारा जाने जाते थे (C. 1914- मार्च 1996), एक उर्दू लेखक थे जो इस्लामी इतिहास से संबंधित अपने उपन्यासों के लिए प्रसिद्ध हैं। उनका जन्म प्री-पार्टिशन इंडिया में वज़ीराबाद में एक Arain परिवार में हुआ था और 1947 में

Read More
लिट्टी चोखा

बिहार का सुप्रसिद्ध व्यंजन: लिट्टी चोखा

मेधा की शादी बिहार में बड़ी ही धूमधाम से हुई,मेधा विदाई होकर अपने ससुराल में आई तो सभी ने उसको बहुत प्यार व सम्मान दिया।चार दिन तक अधिकतर मेहमान जा चुके थे। शादी के पांचवे दिन मेधा की पहली रसोई थी। यूं तो मेधा बचपन से ही बहुत मेधावी थी।

Read More
नाटक

नाटक

कुछ बीते बरस की बातें याद आ गयी , शेयर कर रहा हूँ बस्स ! वो सर्द दिन ही थे , सांझ जल्दी ढलने की कोशिश में थी और नाटक अभी शुरू ही नहीं हुआ था , नादिरा.. उस दिन बहुत उदास थी … क्यूंकि दोपहर को ही उसने मुझसे कहा था सन्दीप , मुझे अब पूना जाना

Read More

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा ज्योतिबा फुले

जन्म: 11 अप्रैल 1827 कटगुन, सतारा जिला, महाराष्ट्र, भारत पिता का नाम: गोविंदराव माता का नाम: विमलाबाई अन्य नाम: महात्मा फुले / ज्योतिबा फुले / जोतिबा फुले / जोतिराव फुले पत्नी: सावित्रीबाई फुले युग: 19 वीं सदी मुख्य रुचियाँ: नैतिकता, धर्म, मानवतावाद मृत्यु: 28 नवंबर 1890 (आयु 63 वर्ष) पुणे, महाराष्ट्र, भारत महाराष्ट्र के पुणे शहर में जोतिबा

Read More

नाराजगी

हमने मुहब्बत को इबादत समझा है आज फिर तुम्हारी नाराजगी भगाने आ गए ! तबियत भी बेईमान पर जैपुरे आज आ गए देखो इन स्पीड ब्रेकरों को आज ... रफ्तार को लगाम लगाने आ गए ख्याल ए ठोकर आया ही नहीं खामखा वक्त जाया कराने आ गए... आज मौसम भी कुछ ऐसा ही है कमबख्त बे-ईमान सरीका आ

Read More